Friday, 1 February 2013

आंसू


आंसू कभी नहीं सूखते.
वो भेदते हैं त्वचा का झीना आवरण और समा जाते हैं शरीर के भीतर,
दौड़ते हैं खून के साथ नसों-औ-शिराओं में.
दिलो-दिमाग से गुज़रकर
जज़्ब हो जाते हैं आत्मा में
शायद इसलिए आत्मा कभी नहीं मरती.

No comments:

Post a comment